ahale_baat_ rdwan_allt_tʿalyʿ_ʿlyہm_ kee, muhabbat_eemaan_ka_juz_hai., - hadees war Hindi 2019 Muslim Aaj Hadees in English hadhis

ahale_baat_ rdwan_allt_tʿalyʿ_ʿlyہm_ kee, muhabbat_eemaan_ka_juz_hai.,




ahale_baat_ rdwan_allt_tʿalyʿ_ʿlyہm_ kee,                    muhabbat_eemaan_ka_juz_hai.,

अहले_बैत_ رضوان_اللہ_تعالیٰ_علیہم_की,

                  #मुहब्बत_ईमान_का_जुज़_है

ahale_baat_ rdwan_allt_tʿalyʿ_ʿlyہm_ kee,
                  muhabbat_eemaan_ka_juz_hai.,

ek muslim ke lie laazim hai ki vah apanee jaan, maal, aulaad se badhakar sarakaare madeena, qaraare qalbo seena muh se muhabbat rakhata hai, kyoonki huzoor ʿlyہ alshlaۃ walslam kee muhabbat hee akl eemaan hai, isake bagair daava e qarz haragiz qasba qabaab mein hai. kareem hai se muhabbat kee gathabandhanamat ye bhee hai ki banda un tamaam logon se bhee muhabbat kare aur unaka adabo ehatiraam kare jinako rasoolullaah shly allh ʿlyh wslm se nisbat va taalluq haasil kar raha hai-
dhyaan rakhen! sahaaba e kiraam ʿlyہm alranwan se muhabbat karana muhabbat rasool kee alaamat hai- azvaje mutaharaat rdy allہ tʿaly ʿnہm se muhabbat karana muhabbat rasool kee alaamat hai- ahale baite atahar vaseeyat mein shishtaachaar ka ullanghan hai. ʿn ʿm se muhabbat karana muhabbat rasool kee alaamat hai-
khud hadeese paak mein apanee aulaad ko ahale baite kiraam kee muhabbat seekhane kee tarageeb maujood hai, chunaancha aaqa kareem ir ne irashaad faramaaya:
                  "aad ’boo aawalaadam ʿaly thailath khishaaliⁿ"
yaanee apane bachchon ko teen cheejen sikhao: "hib nabikuym ko" yaanee nabee kee muhabbat, "wahubi aaہli baytiہ" aur ahale bait kee muhabbat, "waqiraaʾaۃi alqur cheezemh cheezenh"
(al (waʿqu almuhrq, sh almqudshalthany fymatہmntہ tlk alayۃ mn blb mhbۃ alb ʿ ʿ ʿ)

is hadeese paak se maaloom hua ki huzoor ʿlysh alۃlaw walslam apane ahale baite kiraam se kis qadr muhabbat pharamaate ki sahaaba e kiraam ʿlyہm alrdwan ko is baat kee taaleemaat irashaad farama rahe hain ki tum aur main mere peechhe rah jaoge. aane vaalee naslon ke dilon mein bhee meree aur meree ahale bait kee muhabbat paida karana taaki unaka shumaar bhee nijaat yaaphta logon mein ho- ek aur maqaam par to aaqa ʿlyہ alshlaۃ walslam ne ap e ahale baite kiraam kee muhabbat ko eemaane kaamil ke lie shart qaraar diya-
chunaancha phuran mustapha mu hai:
                  "koee banda momineshan kaamil nahin hota yahaan tak ki main use usakee jaan se zyaada pyaara na hoon aur meree aulaad usako apanee jaan se zyaada pyaaree na ho aur mere ahal unhen apane ahal se zyaada mahaboob na hon aur meree zaat us zaat se zyaada pyaaree ho. na ho- "
(shʿb alayman llbyyqy b bab fy hb alnby b fshl fy braʾ tہ fy alnbwۃ , alhbyth: 1505 al al/189)
         * # eemaan_jise_kahate_hain_aqeede_mein_hamaare

        * #
vo_teree_muhabbat_teree_itarat_kee_vila_hai

maaloom hua ki momineshan kaamil banane aur ukharavee nijaat paane ke lie ahale baite kiraam kee muhabbat bahut zarooree hai- ahale bait kee muhabbat rasoolullaah muh kee muhabbat hai, ahale bait kee muhabbat allaah taaala aur usake rasool shly allh ʿlyh wslm kee raza paane ka sabab hai, ahale bait. kee muhabbat eenaam kaamil kee nishaanee hai, ahale bait kee muhabbat donon jahaan kee kaamayaabee paane ka silasila hai,

ahale bait kee muhabbat khaatma bilu ka zariya hai- ahale bait kee muhabbat sachche aashiqe rasool hone kee alaamat hai- ahale bait kee muhabbat gulaamee e mustapha kee sanad hai - alagaraz ahale bait se muhabbat rakhana bahut bada saaadat aur daimee nijaat ka sabab hai. isalie hamen khud bhee bhee muhabbat chaahie aur apanee aulaad ko bhee ahale bait atahar kee muhabbat aur unakee adab seekh chaahie, usaka ek zariya ye bhee hai ki apanee aulaad ko ahale baite at aar ke vaaqiaat sunae jaen, ahale bait kiraam kee seerato kiradaar se unhe aagaah kiya jae aur unakee taaleemaat par amal karane ka dars diya jae






अहले_बात_ رضوان_اللت_تعالیع_علیہم_ की,
                  # मुहब्बत_ईमान_का_जुज़_है।,

एक मुस्लिम के लिए लाज़िम है कि वह अपनी जान, माल, औलाद से बढ़कर सरकारे मदीना, क़रारे क़ल्बो सीना मुह से मुहब्बत रखता है, क्यूंकि हुज़ूर علیہ الصلاۃ والسلام की मुहब्बत ही अक्ल ईमान है, इसके बग़ैर दावा ए क़र्ज़ हरगिज़ क़स्बा क़बाब में है। करीम है से मुहब्बत की गठबंधनमत ये भी है कि बंदा उन तमाम लोगों से भी मुहब्बत करे और उनका अदबो एहतिराम करे जिनको रसूलुल्लाह ﷺ से निस्बत व ताल्लुक़ हासिल कर रहा है-
ध्यान रखें! सहाबा ए किराम علیہم الرانوان से मुहब्बत करना मुहब्बत रसूल की अलामत है- अज़्वजे मुतहरात رضی اللہ تعالیٰ عنہم से मुहब्बत करना मुहब्बत रसूल की अलामत है- अहले बैते अतहर वसीयत में शिष्टाचार का उल्लंघन है। عن عما से मुहब्बत करना मुहब्बत रसूल की अलामत है-
खुद हदीसे पाक में अपनी औलाद को अहले बैटे किराम की मुहब्बत सीखने की तरग़ीब मौजूद है, चुनांचा आक़ा करीम इर ने इरशाद फ़रमाया:
                  "'اَد ’بُوْا اَوَلَادَْمَ عَلٰی ثَِلاث خِصَالٍ"
यानी अपने बच्चों को तीन चीजें सिखाओ: "حِّبَ نَبِّکُیْم को" यानी नबी की मुहब्बत, "وَحُبِّ اَہْلِ بَیْتِہٖ" और अहले बैत की मुहब्बत, "وَقِرَاءَۃِ الْقُرْا चीज़ेंٰه चीज़ेंه"
(ال (واعقُ المُحرق، ص المقُدصالثانی فیماتہمنتہ تلک الآیۃ من بلب محبۃ آلب ع ع ع)

इस हदीसे पाक से मालूम हुआ कि हुज़ूर علیص الۃلاو والسلام अपने अहले बैते किराम से किस क़द्र मुहब्बत फरमाते कि सहाबा ए किराम علیہم الرضوان को इस बात की तालीमात इरशाद फ़रमा रहे हैं कि तुम और मैं मेरे पीछे रह जाओगे। आने वाली नस्लों के दिलों में भी मेरी और मेरी अहले बैत की मुहब्बत पैदा करना ताकि उनका शुमार भी निजात याफ्ता लोगों में हो- एक और मक़ाम पर तो आक़ा علیہ الصلاۃ والسلام ने अप े अहले बैते किराम की मुहब्बत को ईमाने कामिल के लिए शर्त क़रार दिया-
चुनांचा फुरन मुस्तफा मु है:
                  "कोई बंदा मोमिनेशन कामिल नहीं होता यहाँ तक कि मैं उसे उसकी जान से ज़्यादा प्यारा ना हूँ और मेरी औलाद उसको अपनी जान से ज़्यादा प्यारी ना हो और मेरे अहल उन्हें अपने अहल से ज़्यादा महबूब ना हों और मेरी ज़ात उस ज़ात से ज़्यादा प्यारी हो। ना हो- "
(شعب الایمان للبییقی ب باب فی حب النبی ب فصل فی براء تہ فی النبوۃ ، الحبیث: ۱۵۰۵ ال ال/۱۸۹)
         * # * ईमान_जिसे_कहते_हैं_अक़ीदे_में_हमारे

        * # * वो_तेरी_मुहब्बत_तेरी_इतरत_की_विला_है

मालूम हुआ कि मोमिनेशन कामिल बनने और उखरवी निजात पाने के लिए अहले बैते किराम की मुहब्बत बहुत ज़रूरी है- अहले बैत की मुहब्बत रसूलुल्लाह मुह की मुहब्बत है, अहले बैत की मुहब्बत अल्लाह तआला और उसके रसूल ﷺ की रज़ा पाने का सबब है, अहले बैत। की मुहब्बत ईनाम कामिल की निशानी है, अहले बैत की मुहब्बत दोनों जहाँ की कामयाबी पाने का सिलसिला है,

अहले बैत की मुहब्बत खात्मा बिलु का ज़रिया है- अहले बैत की मुहब्बत सच्चे आशिक़े रसूल होने की अलामत है- अहले बैत की मुहब्बत गुलामी ए मुस्तफा की सनद है - अलगरज़ अहले बैत से मुहब्बत रखना बहुत बड़ा सआदत और दाइमी निजात का सबब है। इसलिए हमें खुद भी भी मुहब्बत चाहिए और अपनी औलाद को भी अहले बैत अतहर की मुहब्बत और उनकी अदब सीख चाहिए, उसका एक ज़रिया ये भी है कि अपनी औलाद को अहले बैते अत ार के वाक़िआत सुनाए जाएं, अहले बैत किराम की सीरतो किरदार से उन्हे आगाह किया जाए और उनकी तालीमात पर अमल करने का दर्स दिया जाए ...
ahale_baat_ rdwan_allt_tʿalyʿ_ʿlyہm_ kee, muhabbat_eemaan_ka_juz_hai., ahale_baat_ rdwan_allt_tʿalyʿ_ʿlyہm_ kee,  muhabbat_eemaan_ka_juz_hai., Reviewed by hadees on 22:43 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.